No icon

पार्टी में अंदरुनी कलह की वजह से नेताओं का दल बदली का सिलसिला लगातार जारी है..

लालू ने अपने बड़े लाल को लगाई फटकार, मुंह बंद रखने की दी सलाह

PATNA: बिहार विधानसभा का चुनाव सर पर है पार्टी ने इसी बीच पार्टी में अंदरुनी कलह की वजह से नेताओं का दल बदली का सिलसिला लगातार जारी है। इसी बीच महागठबंधन की ओर से राजद की कमान संभालें तेज प्रताप यादव अपने बचकाने और बड़बोलेपन से बाज नहीं आ रहे हैं। तेज प्रताप का बड़बोलापन अब दिग्गज नेताओं को हजम नहीं हो रही है।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव भी तेज प्रताप के बड़बोलेपन से परेशान हो हो गए हैं जिस वजह से एक बार फिर तेज प्रताप को अपने पिता से फटकार सुनना पड़ा। जैसे कि आपको पता है कि इससे पहले भी लालू प्रसाद यादव कई बार तेज प्रताप को भाषा की मर्यादा में रहने की बात कह चुके हैं और उन्हें समझा चुके हैं।

 
दरअसल तेज प्रताप अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहते हैं कई बार उनके बयान की सराहना होती है तो कई बार उनकी बातों से खुद उनके ही पार्टी के कुछ नेता नाराज हो जाते हैं ऐसे में चुनावी बिसात पर बिछाया गया राजद का सारा समीकरण बिगड़ने लगता है। जिससे नेता दल बदलने लगते हैं। हाल ही में रघुवंश प्रसाद द्वारा लालू प्रसाद यादव को लिखे गए त्यागपत्र के बाद तेज प्रताप ने कहा था की पार्टी एक समंदर है और नेता एक लोटा पानी।

तेज प्रताप के इस बयान का सत्ता के गलियारे में राजनीति के चौबारे में घोर निंदा हुई और उन्हें जमकर कोसा गया। हालांकि रघुवंश बाबू तो इस दुनिया को अलविदा कह गए लेकिन तेज प्रताप का यह बयान एक राजनीतिक कील बनकर रह गया। यकीन जानिए यह अकील वक्त वक्त पर नेताओं को अवश्य चुभेगी। 
तमाम मुद्दों को ध्यान में रखकर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने फ्यूचर में महागठबंधन को होने वाले नुकसान को देखते हुए तेज प्रताप को फटकार लगाई और चुप रहने को कहा।

Comment As:

Comment (0)

-->